Wednesday, 11 July 2018

भारत की तकनीकी शिक्षा में है भारी कमियां, जानिए कैसे इसको बेहतर बनाया जा सकता है?

भारत की तकनीकी शिक्षा में है भारी कमियां, जानिए कैसे इसको बेहतर बनाया जा सकता है?

भारत की तकनीकी शिक्षा में है भारी कमियां, जानिए कैसे इसको बेहतर बनाया जा सकता है?
भारत की तकनीकी शिक्षा में है भारी कमियां, जानिए कैसे इसको बेहतर बनाया जा सकता है?
भारत में तकनीकी शिक्षा में कई तरह की कमियां हैं। इसलिए अधिकांश संस्थान में से आने वाले इंजीनियर बेरोजगार ही रह जाते हैं। स्थिति में सुधार के लिए कुछ स्पोराडिक प्रयास हुए हैं लेकिन अधिकांश प्रयास कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं ला पाए।
इस विफलता के लिए उपाय कारण समस्या से निपटने के लिए विचारशील और आकस्मिक दृष्टिकोण था।
अगर हम वास्तव में भारत में इंजीनियरिंग शिक्षा में सुधार करना चाहते हैं और हमारे इंजीनियरों को देश की विकास और समृद्धि में वास्तव में योगदान देना चाहते हैं, तो पूरे डोमेन को पूरी तरह से पुनर्विचार की आवश्यकता है। दरअसल इंजीनियरिंग शिक्षा प्रणाली को पूरी तरह से इंजीनियरिंग की जरूरत है।
1. तकनीकी शिक्षा प्रणाली का प्रबंधन

Third party image reference
वर्तमान में, भारत में संस्थान का प्रबंधन तीन-आयामी है:
प्रत्यक्ष सरकारी नियंत्रित संस्थान।
डायरेक्ट फाइनेंशियल एडेड इंस्टीट्यूशंस एंड द जर्नल ऑफ़ इंजीनियरिंग एजुकेशन,
निजी एजेंसियों द्वारा अपने वित्तीय संसाधनों से प्रबंधित अवैतनिक संस्थान।
2. कार्यक्रम और पाठ्यक्रम विकास
प्रौद्योगिकी में तेजी से बदलाव और विकास की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, स्नातक पाठ्यक्रम विशेषज्ञता पर जोर देने के साथ विविधतापूर्ण हो रहे हैं। हालांकि, इस तेजी से बदलती आवश्यकता को पूरा करने के लिए प्रशिक्षित संकाय उत्पन्न करने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है।
इस उद्देश्य के लिए तकनीकी क्षेत्रों में दूसरे देशों में हो रहे बदलावों पर नजर रखनी चाहिए और साथ ही इन बदलावों को भारत के कोर्स में एड करने की जरूरत है।
3. इंजीनियरिंग शिक्षा पर सहयोग:

Third party image reference
भारत में, इंजीनियरिंग अनुसंधान और विकास कार्यक्रम मुख्य रूप से आईआईटी में मौजूद हैं। यहां भी तकनीकी गतिविधियों पर ध्यान उतना नहीं दिया जाता है।
अन्य संस्थान - पॉलिटेक्निक के साथ-साथ डिग्री कॉलेजों में रुचि और समर्थन की कमी के कारण अनुसंधान और विकास का समर्थन यहां बहुत ही कम होता है।
इसे हल करने के लिए, परामर्श की भूमिका में उद्योग के साथ इंजीनियरिंग शैक्षिक संस्थानों की एक मजबूत बातचीत होनी चाहिए तकनीकी शिक्षा के भविष्य के विकास के लिए महत्वपूर्ण के रूप में पहचाना जाता है और संकाय को लाइव समस्याओं में योगदान करने का अवसर प्रदान करता है और समस्याओं को हल करने के लिए भी। कई निजी संस्थानों में अभी भी पुराने घिसे पिटे कोर्स को पढ़ाया जाता है।
4. इमेजिंग क्षेत्रों में उच्च तकनीक में निवेश
यह महत्वपूर्ण है कि नई उभरती तकनीक पर ध्यान दिया जाना चाहिए। साथ ही ये तकनीक कैसे उभरी इसके बारे में भी सभी को पता होना चाहिए। तभी कुछ परिवर्तन लाया जा सकता है। यह जरूरी है कि आधुनिक विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उच्च तकनीक का विकास और उपयोग किया जाए।



Related Posts

भारत की तकनीकी शिक्षा में है भारी कमियां, जानिए कैसे इसको बेहतर बनाया जा सकता है?
4/ 5
Oleh